25 June 2020

पंच तत्वों का शारीरिक अवयवों एवं प्रवृत्तियों से संबंध - The relationship of the five elements to the physical components and tendencies

पंच तत्वों का शारीरिक अवयवों एवं प्रवृत्तियों से संबंध - The relationship of the five elements to the physical components and tendencies


पंच तत्वों का शारीरिक अवयवों एवं प्रवृत्तियों से संबंध


 शरीर में प्रत्येक अवयव किसी न किसी पंच महाभूत तत्त्व से संबंधित होता है। जिसकी संक्षिप्त जानकारी नीचे दी जा रही है।
  • पृथ्वी तत्त्व - अस्थि, त्वचा, मांसपेशियाँ, नाखून, शरीर के बाल
  • जल तत्त्व - रक्त, वीर्य, मल, मूत्र, मज्जा, पसीना, कफ, लार
  • अग्नि तत्त्व - निद्रा, भूख, प्यास, आलस्य, शरीर का तेज, क्रोध, पाचन रस, शरीर का तापक्रम
  • वायु तत्त्व - धारण करना, फेंकना, सिकोड़ना, फैलाना, चलना, बोलना, चिन्तन, मनन, स्पर्श ज्ञान
  • आकाश तत्त्व - काम, क्रोध, मोह, लोभ, लज्जा, खालीपन, दुःख, चिता, निर्विकल्पता

दुषवृत्तियों, शारीरिक आवश्यकताओं और रोग संबंधी अवयवों FIRE

कि असंतुलन को संबंधित महाभूत तत्त्व को संतुलित कर आसानी से दूर

किया जा सकता है। जिससे व्यक्ति रोग मुक्त, सजग बन सुखी जीवन

जीते हुये अपने उच्चतम लक्ष्य को प्राप्त कर सकता है।

 

सबका मंगल हो, सबका कल्याण हो, सभी शांत, प्रसन्न, स्वस्थ एवं रोग मुक्त हों।





No comments: